Hindi ki kahaniyan // कोई समझने वाला चाहिए !

Let`s read a very interesting story for kids in hindi ki kahaniyan

कोई समझने वाला चाहिए !

एक किसान के पास कुछ पिल्ले थे। वह उनको बेचना चाहता था। उसने अपने बाग के पास ही एक दीवार पर विज्ञापन चिपका दिया, तभी उसके पास एक छोटा लड़का आया और कहने लगा, ‘मैं आपसे एक पिल्ला खरीदना चाहता हूं।’ ‘अच्छा…’ किसान बोला। इनके पैसे भी बहुत ज्यादा लगेंगे। लड़के का मन छोटा-सा हो गया। अपनी जेब में हाथ डालते हुए कुछ सिक्के टटोलने लगा, तभी उसे कुछ रुपये अपनी जेब में मिले। उसने किसान से कहा- ‘मेरे पास पचास रुपये हैं। मैं पिल्लों को खरीद नहीं सकता, पर देख तो सकता हूँ ?’

‘जरूर’,किसान ने जवाब दिया। ऐसा कहते ही उसने जोर से एक आवाज दी- ‘डॉली, यहाँ आओ। आवाज सुनते ही डॉली अपने घर से भाग कर बाहर आ गई। उसके पीछे-पीछे बेहद मुलायम रुई के गोलों जैसे चार पिल्ले भी भागते हुए आ गए। वह छोटा लड़का अपना चेहरा, बड़े के आस-
पास लगी जंजीर से टिका कर खड़ा हो गया। वह बेहद खुश था। जैसे ही कुत्ते भागते हुए मेड़ तक आए लड़के की नजर दर एक पिल्ले पर पडी. जो धीरे-धीरे आगे बढ़ रहा था, जिससे बाकी पिल्लों और अपनी मां के साथ आकर खड़ा हो सके। शायद उसे कोई तकलीफ थी, लड़के ने उसकी तरफ इशारा करते हुए कहा- ‘मुझे यह चाहिए।


किसान लड़के की तरफ झुकते हुए बोला- ‘बेटे यह पिल्ला कभी भी भाग नहीं पाएगा। दूसरे पिल्लों की तरह तुम्हारे साथ खेल नहीं पाएगा। ऐसा सुनते ही वह लड़का थोड़ा पीछे हटा और अपनी एक टांग की पैंट ऊपर की तरफ मोड़ते हुए बोला- ‘मैं भी – भाग नहीं सकता।
उसकी एक टांग खराब थी। स्टील के ब्रेसिज लगा कर तथा एक विशेष जूते के द्वारा उसकी टांग को सहारा दिया गया था। वह भी विकलांग था, ठीक से चल नहीं पाता था। उस पिल्ले की तरह उसे भी तो कोई समझने वाला चाहिए था।

hindi ki kahaniyan

प्यारे बच्चो आपको यह कहानी कैसी लगी ये तो मुझे नहीं पता , लेकिन इस कहानी से हम सभी को यह सिख मिलती है की हमे कभी  एक दुसरो की परेशानी  को समझना चाहिए , हमे कभी एक दुसरो का मज़ाक नहीं उड़ाना चाहिए | 

हमारे यहाँ कहानी सुनने -सुनाने और पढ़ने -पढ़ाने की परंपरा रही है | दरअसल कहानियाँ हमे भाषा की गहराई तक जोड़ती है | अगर कहानियों को पढ़ने का शौक बना लिया जाए तो हम काफी हद तक यह भाषा सीख सकते हैं |  

Thanks for reading this story in hindi ki kahaniyan

read more stories

Leave a Comment

Your email address will not be published.